जेब में फूटी कौड़ी नहीं और निकल पड़े कारखाने के मालिक बनने!